November, 2022

सामान्य

कर्क राशि के जातकों के लिए दिसंबर का महीना मिश्रित परिणाम लेकर आएगा। कार्यक्षेत्र में राहु और सूर्य का प्रभाव आपके लिए सिरदर्द भी बन सकता है इसलिए आपको बहुत सावधानी से काम करना होगा। आपके विदेश जाने की भी संभावना अच्छी बनेगी लेकिन आप के खर्चे भी काफी अधिक रहेंगे लेकिन घबराने की आवश्यकता भी नहीं होगी क्योंकि आमदनी में भी कोई कमी नहीं होने वाली है। आप इस महीने जमकर कमाएंगे और जमकर खर्च करेंगे और जीवन का लुत्फ उठाएंगे पारिवारिक जीवन को लेकर चिंताएं रहेंगी लेकिन भाग्य का साथ मिलने से आपकी परेशानियों का हल आपको प्राप्त हो जाएगा। नवंबर का यह महीना आपके जीवन के लिए कैसा रहेगा और परिवार, करियर, स्वास्थ्य, प्रेम आदि क्षेत्रों में आपको कैसे फल प्राप्त होंगे, यह जानने के लिए विस्तार से राशिफल पढ़ें।

कार्यक्षेत्र

यदि आपके करियर की बात करें तो आपको इस महीने थोड़ी सी सावधानी रखनी आवश्यक होगी। आपकी कुंडली के दशम भाव में राहु और उसके ऊपर सूर्य का प्रभाव बना हुआ है जो कार्य क्षेत्र में समस्याओं को जन्म दे सकता है। ऐसी भी संभावना बनती है कि आपका अपने कार्यस्थल पर किसी से झगड़ा हो जाये। इसके परिणामस्वरूप आपको नौकरी में परेशानी उठानी पड़ सकती है या आप खुद ही नौकरी छोड़कर परेशान होकर घर आ सकते हैं। इस स्थिति से बचने की जितना संभव हो कोशिश करें क्योंकि यदि ऐसा हो जाता है तो आपको दोबारा नौकरी पाने में थोड़ा विलंब हो सकता है और मानसिक रूप से परेशान होंगे। जहां तक संभव हो, स्वयं को संतुलित और मन को शांत रखने की कोशिश करें ताकि नौकरी में किसी तरह की समस्या ना आए। हालांकि आपके लिए अच्छी बात यह होगी कि आप के वरिष्ठ अधिकारी आपके पक्ष में रहेंगे और आपको सहयोग और समर्थन देंगे जिससे नौकरी में आप खुद को सिद्ध कर पाएंगे। छठे भाव के स्वामी बृहस्पति के नवम भाव में होने के कारण आप अपने प्रयासों के कारण नौकरी में अच्छी स्थिति में आ सकते हैं। नौकरी में किसी तरह का तबादला ट्रांसफर होने के योग भी बन सकते हैं और यदि आप पहले से ही किसी नौकरी की तलाश में हैं तो इस दौरान आपकी वह तलाश पूरी हो सकती है।
यदि आप कोई व्यापार करते हैं तो आपके लिए महीने की शुरुआत उतार-चढ़ाव से भरी रह सकती है क्योंकि सप्तम भाव के स्वामी शनि सप्तम भाव में ही रहेंगे जिसकी बदौलत व्यापार में आपका व्यवहार आपके काम को उतार-चढ़ाव की स्थिति में ला सकता है। स्पष्ट बोलना अच्छी बात है लेकिन कई बार कड़वे तरीके से सच बोलना भी नुकसानदायक हो सकता है। इस बात का ध्यान रखेंगे तो क्षेत्र में सफलता अर्जित करेंगे। भाग्य स्थान पर बृहस्पति का प्रभाव आपको सही निर्णय लेने में मदद करेगा जिससे व्यापार में आप अपने अनुकूल स्थितियों का निर्माण करने में कामयाब हो सकते हैं। विशेष रूप से महीने का उत्तरार्ध ज्यादा लाभदायक रहेगा।

आर्थिक

यदि आर्थिक दृष्टिकोण से देखें तो नवम भाव में बृहस्पति की उपस्थिति और एकादश भाव पर बुध और शुक्र की दृष्टियां आर्थिक तौर पर आप को मजबूत बनाएंगी। आपकी आमदनी में अच्छी बढ़ोतरी देखने को मिलेगी जिससे आप इस समय में आपकी आर्थिक स्थिति का लाभ उठाएंगे लेकिन द्वादश भाव में वक्री मंगल की उपस्थिति होने के कारण खर्चे भी लगातार बने रहेंगे फिर भी आप की आमदनी अच्छी रहने से आमदनी और खर्च के बीच का अनुपात ज्यादा नहीं बिगड़ेगा और आप जितना कमाएंगे, उसमें से कुछ अच्छा खर्च भी करेंगे जिसकी बदौलत आप अपने धन का पूरा लाभ उठा पाने में कामयाब रहेंगे लेकिन आपको सलाह दी जाती है कि आप खर्च के साथ-साथ कुछ बचत पर भी ध्यान दें क्योंकि आने वाले समय में आपको इसकी आवश्यकता पड़ सकती है। बुध और शुक्र के पंचम भाव में चले जाने से और एकादश भाव को देखने से फिर से आमदनी में इजाफा होगा और जब महीने के उत्तरार्ध में श्री सूर्य देव आपके पंचम भाव में आ जाएंगे, तो खर्चों में कुछ कमी होगी और आमदनी बढ़ने से आप राहत महसूस करेंगे।

स्वास्थ्य

यदि स्वास्थ्य की बात की जाए तो आपको थोड़ा ध्यान रखना पड़ेगा। महीने की शुरुआत में द्वादश भाव में मंगल, दशम भाव में राहु तथा सप्तम भाव में शनि की उपस्थिति और चौथे भाव पर छह ग्रहों का प्रभाव स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से बिल्कुल भी अनुकूल नहीं है और आप को परेशानियां उठानी पड़ सकती हैं। केवल देव गुरु बृहस्पति की आपके प्रथम भाव पर दृष्टि आपको स्वास्थ्य समस्याओं से लड़ने में मजबूत बनाएगी और आपकी सेहत में सुधार करेगी। मंगल देव के द्वादश भाव से एकादश भाव में आ जाने से महीने के उत्तरार्ध में काफी हद तक स्थितियां सुधरेंगी फिर भी शनि का सप्तम भाव में रहना किसी बड़े रोग के जन्म लेने की ओर इशारा करता है इसलिए आपको बिल्कुल भी अपने स्वास्थ्य से संबंधित समस्याओं को नजरअंदाज करने से बचना होगा, तभी आप खुद को चुस्त-दुरुस्त रख पाएंगे।

प्रेम व वैवाहिक

महीने का पूर्वार्ध कुछ कमजोर रहेगा और आप दोनों के बीच तनातनी बढ़ सकती है। हालाँकि उसके बाद पंचम भाव पर बुध और शुक्र का प्रभाव होने से आपके प्रेम संबंधों में प्रगाढ़ता आएगी। आप एक दूसरे के प्यार में रंगे नजर आएंगे और प्यार की पींगे बढ़ाते हुए जीवन में आगे बढ़ेंगे। आपके बीच की कैमिस्ट्री बहुत अच्छी होगी और लोगों की जुबान पर आपकी बात होगी जिससे आपका प्रेम जीवन बहुत ही दिलकश अंदाज में आगे बढ़ेगा। आप एक दूसरे से अपने मन की बातें करने में सफल रहेंगे। आपके रिश्ते में रोमांस भी रहेगा साथ में कहीं घूमने जाना या फिर कहीं बाहर खाना खाने जाना या वे सभी बातें, जो एक प्रेमी प्रेमिका के मध्य होती हैं, आप उन सभी बातों का लुत्फ उठाएंगे और अपने प्रेम जीवन को आनंद के साथ बिताएंगे लेकिन महीने के उत्तरार्ध में जब मंगल महाराज वक्री होकर आपके एकादश भाव में चले जाएंगे, तब प्रेम जीवन में कुछ समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि आप इतने समझदार हैं कि उन चुनौतियों से बाहर निकल सकते हैं। इसके लिए आप को आपस में बैठकर बातचीत और विचार विमर्श करना चाहिए।
यदि विवाहित लोगों की बात करें तो कुंडली में सप्तम भाव के स्वामी शनि महाराज कुंडली के सप्तम भाव में विराजमान हैं जो कि एक अनुकूल स्थिति कही जा सकती है लेकिन पारिवारिक जीवन के तनाव की वजह से आपके दांपत्य जीवन में तनाव बढ़ सकता है। आपके जीवन साथी को स्वास्थ्य समस्याएं परेशान कर सकती हैं जिससे घर का माहौल बिगड़ सकता है तथा आप और आपके जीवनसाथी के बीच यदि पहले से चली आ रही हैं तो इस दौरान तलाक की बात भी चल सकती है। हालांकि देव गुरु बृहस्पति की दृष्टि आप को इस समस्या से बाहर निकालने में सही निर्णय लेने में मददगार साबित होगी। सूर्य के महीने के उत्तरार्ध में आप के पंचम भाव में आकर एकादश भाव को देखने से अहम का टकराव समाप्त होगा और आप एक दूसरे के निकट आएँगे, इसलिए इस महीने एक दूसरे से वाद विवाद ना हो इसका ध्यान रखें ताकि आपका रिश्ता अच्छे से चल सके। आपकी संतान के लिए यह महीना शुभ समाचार सुनाएगा जिससे आपको काफी खुशी होगी।

पारिवारिक

यदि आपके पारिवारिक जीवन की बात करें तो कुंडली में दूसरे भाव के स्वामी सूर्य महाराज चतुर्थ भाव में विराजमान हैं जिससे कुटुंब में अच्छी स्थितियों का निर्माण तो होगा लेकिन कुटुंब की गतिविधियों के कारण आपका काफी खर्च भी हो सकता है और आप अपना घर के लिए खर्च कर सकते हैं। शनिदेव सप्तम भाव में बैठकर चौथे भाव को देख रहे हैं जिसकी बदौलत कुटुंब और घर परिवार में किसी बात को लेकर तनातनी होने की भी संभावना है। आप के चौथे भाव में केतु महाराज के साथ ही बुध, शुक्र और सूर्य विराजमान होंगे और उनके ऊपर राहु की पूर्ण दृष्टि है, जिसके परिणामस्वरूप रिश्तों में प्रेम होने के बावजूद भी यह स्थिति पारिवारिक जीवन के लिए अनुकूल नहीं है और परिवार में अशांति रह सकती है। इसके परिणामस्वरूप आप यदि विद्यार्थी हैं तो आपकी पढ़ाई और यदि आप कामकाजी हैं तो आपके काम पर असर पड़ सकता है क्योंकि आपके ऊपर इतना दबाव होगा कि जिसे आप संभाल पाने में सक्षम नहीं होंगे इसलिए आपको यदि आवश्यक हो तो कुछ समय के लिए कहीं घूमने भी जाना चाहिए ताकि मन और मस्तिष्क में ताजगी का अनुभव हो सके। छोटे भाई बहनों को पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा और उनकी बदौलत आप को आर्थिक लाभ भी हो सकते हैं। महीने के उत्तरार्ध में आपको परिवार के लोगों का सहयोग प्राप्त होगा और घर का माहौल भी भी सकारात्मक हो सकता है।

उपाय

सोमवार के दिन शिवलिंग पर जलाभिषेक करें।
प्रतिदिन "ॐ नमः शिवाय" मंत्र का कम से कम 108 बार जाप करें।
शनिवार के दिन काले तिलों का दान करना आपके लिए लाभदायक रहेगा।
मंगलवार के दिन श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें।