November, 2022

सामान्य

मकर राशि के जातकों के लिए नवंबर का महीना बढ़िया रहने की संभावना है। आपकी आमदनी बढ़िया रहेगी जिससे आप अपनी इच्छाओं की पूर्ति कर पाएंगे और आपकी महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति भी होगी। कोई पुरानी लंबे समय से अटकी हुई इच्छा भी पूरी हो सकती है जिससे इस महीने आप काफी खुश नजर आएंगे। हालांकि आप काफी गहरे चिंतन में भी रहेंगे और अध्यात्म और ध्यान के मार्ग पर भी आगे बढ़ेंगे। पारिवारिक हलचल थोड़ा सा ध्यान आकर्षित कर सकती है। आप किसी संस्था को दान देने का विचार भी कर सकते हैं। विरोधियों पर आप भारी रहेंगे। नवंबर का यह महीना आपके जीवन के लिए कैसा रहेगा और परिवार, करियर, स्वास्थ्य, प्रेम आदि क्षेत्रों में आपको कैसे फल प्राप्त होंगे, यह जानने के लिए विस्तार से राशिफल पढ़ें।

कार्यक्षेत्र

करियर के दृष्टिकोण से यह महीना अनुकूल रहने की संभावना है। दशम भाव में शुक्र, बुध, सूर्य और केतु की उपस्थिति रहेगी और शनिदेव का प्रभाव भी रहेगा। इस सब के परिणामस्वरूप कार्यक्षेत्र में आपके पास काम का दबाव रहेगा और एक से ज्यादा काम आपको एक समय में करने पड़ सकते हैं लेकिन इससे बिल्कुल भी हताश निराश ना हो। आपके अंदर काबिलियत है इसलिए आपको यह सब मिलेगा। इससे आपकी कार्यकुशलता भी बढ़ेगी और आपको खुद पर भरोसा बढ़ेगा जिससे आप का मनोबल ऊंचा होगा और यही स्थिति आपको कार्यक्षेत्र में मजबूत स्थिति में लाकर खड़ा कर देगी। 13 नवंबर को वक्री मंगल के पंचम भाव में आने के बाद आपको कार्यक्षेत्र में बदलाव का अवसर भी मिल सकता है। यदि आप काफी लंबे समय से नौकरी बदलने का प्रयास कर रहे थे तो इस दौरान आपको नौकरी बदलने में अच्छी सफलता प्राप्त हो सकती है। नई नौकरी में भी कुछ चुनौतियां आपके सामने रहेंगी, फिर भी आप अपनी काबिलियत के दम पर चुनौतियों को पीछे छोड़कर करियर में आगे बढ़ेंगे। शुक्र, बुध और सूर्य के एकादश भाव में चले जाने से आप के वरिष्ठ अधिकारियों से आपके संबंध अच्छे रहेंगे और सरकारी क्षेत्र से भी लाभ मिलने की संभावना बनेगी। यदि आप कोई सरकारी अधिकारी हैं तो यह महीना आपको तबादले के साथ साथ अच्छा प्रमोशन भी दिलवा सकता है।
यदि आप कोई व्यापार करते हैं तो महीने की शुरुआत अच्छी रहेगी। सप्तम भाव पर शनि महाराज की पूर्ण दृष्टि आपको अपने काम को आगे बढ़ाने के लिए निरंतर प्रयासरत बनाएगी। आप हर रोज यह प्रयास करेंगे कि आज कुछ अच्छा करें और अपने काम को और बढ़िया बनाएं। इससे आपको लाभ होगा और आपका बिजनेस चल निकलेगा।

आर्थिक

यदि आपकी आर्थिक स्थिति की बात करें तो बृहस्पति महाराज पंचम भाव में बैठकर नवम और सप्तम तथा एकादश भाव को पूर्ण दृष्टि से देखेंगे। इसके परिणाम स्वरूप आपकी धन प्राप्ति के लिए प्रयासरत नजर आएंगे। आपकी हर इच्छा पूरी होगी। छठे भाव में बैठे मंगल महाराज द्वादश भाव को पूर्ण दृष्टि से देखेंगे जिससे खर्चों में कमी आएगी और आप आर्थिक तौर पर अच्छा महसूस करेंगे। महीने का उत्तरार्ध ज्यादा अनुकूल रहेगा क्योंकि बुध, शुक्र और सूर्य के आपके एकादश भाव में आ जाने से आपकी आमदनी में अचानक से बढ़ोतरी हो जाएगी और आप बड़े खुश नजर आएंगे। हो सकता है कि एक से ज्यादा माध्यमों से आपके पास धन का आगमन होने लगे। वक्री मंगल भी पंचम भाव में बैठकर जब एकादश भाव को देखेंगे तो आपकी आर्थिक स्थिति में चार चांद लगाएंगे। इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि यह महीना आपकी आर्थिक चुनौतियों को दूर करते हुए आर्थिक स्तर पर आप को मजबूती प्रदान करेगा। यदि आप नौकरी करते हैं अथवा व्यापार, दोनों ही क्षेत्रों में आपको लाभ होगा और आप आर्थिक तौर पर प्रबल स्थिति में आ जाएंगे।

स्वास्थ्य

स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से देखें तो चतुर्थ भाव और दशम भाव पर ग्रहों का अधिक प्रभाव होने के कारण आपको छाती में जकड़न, फेफड़ों से संबंधित समस्या होने की संभावना या फिर कमर में दर्द भी हो सकता है। हालांकि कोई बड़ी समस्या नहीं होगी और महीने का उत्तरार्ध ज्यादा अनुकूल तरीके से व्यतीत हो जाएगा और आप खुद को चुस्त-दुरुस्त महसूस करेंगे, फिर भी तीसरे भाव में बैठे बृहस्पति आपको थोड़ा अलसी बना सकते हैं और इसके कारण आप अपने शरीर को समय नहीं देंगे और आपका रोजाना का तरीका थोड़ा सा अव्यवस्थित हो जाएगा जिससे शरीर में मोटापा बढ़ने की शिकायत हो सकती है। आपको अत्यधिक वसा युक्त भोजन और ज्यादा तले भुने भोजन के प्रयोग से बचना चाहिए। यदि आप ऐसा कर पाने में सफल रहते हैं तो आप खुद को तंदुरुस्त बना सकते हैं और बीमारियों से मुक्ति पा सकते हैं। यदि किसी कारणवश शारीरिक समस्या परेशान करे तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें और प्रतिदिन थोड़ी बहुत एक्सरसाइज या फिर सुबह की सैर अवश्य करें।

प्रेम व वैवाहिक

महीने की शुरुआत प्रेम जीवन के लिए सामान्य रहेगी और आप सामान्य तरीके से अपने प्रेम जीवन को जिएंगे। प्रेम संबंधों में गर्मी रहेगी और एक दूसरे के प्रति प्रेम का भाव रहेगा। 11 तारीख को शुक्र के एकादश भाव में जाकर पंचम भाव को देखने से प्रेम संबंधों में बढ़ोतरी होगी। एक दूसरे से नजदीकियां बढ़ेंगी और दूरियों में कमी आएगी। आप एक दूसरे के साथ अच्छा वक्त बिताएंगे और खुशी भरे पलों का भरपूर लुत्फ उठाएंगे। एक दूसरे के साथ घूमने फिरने जाने के भी योग बनेंगे। इसके बाद बुध के 13 तारीख को आपके एकादश भाव में आ जाएंगे तो आपके प्रेम जीवन के लिए और भी अच्छा होगा। आपके बीच काफी बातें होंगी और अपने मन की बातें एक दूसरे से साझा करके दिल को हल्का करेंगे। रिश्ते में एक दूसरे पर भरोसा बढ़ेगा। 13 तारीख को वक्री मंगल आपके पंचम भाव में प्रवेश करेंगे। इसके परिणाम स्वरूप आपके रिश्ते में तनातनी बढ़ेगी और आप एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप शुरू कर सकते हैं इसलिए आपको थोड़ी सी सावधानी रखनी चाहिए और वाद-विवाद से दूर रहना चाहिए। काम का दबाव भी रहेगा। सूर्य देव भी एकादश भाव में आकर पंचम भाव को देखेंगे जिससे महीने का उत्तरार्ध प्रेम जीवन में तनाव बढ़ सकता है।
यदि विवाहित जातकों की बात करें तो पूरे महीने प्रथम भाव में बैठे शनि देव की दृष्टि सप्तम भाव पर रहेगी जिसके परिणाम स्वरूप आप और आपके जीवनसाथी के मध्य में एक अनुशासन सा रहेगा। आप दोनों एक दूसरे को महत्व देंगे और एक दूसरे की भावनाओं को समझेंगे। बृहस्पति महाराज भी पंचम दृष्टि से सप्तम भाव को देखते रहेंगे। इसके परिणाम स्वरूप रिश्ते में समर्पण और प्रेम की भावना बनी रहेगी। दांपत्य जीवन को बनाए रखने के लिए अच्छा प्रयास करेंगे और घर का माहौल भी सकारात्मक हो जाएगा। आपकी संतान के लिए यह समय मिश्रित परिणाम लेकर आएगा। वह अपनी शिक्षा अथवा करियर में अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब रहेंगे लेकिन मंगल के पंचम भाव में वक्री अवस्था में जाने से उनके स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव आ सकते हैं, उनका ध्यान रखें।

पारिवारिक

यदि आपके पारिवारिक जीवन की बात की जाए तो दूसरे भाव के स्वामी शनि महाराज पूरे महीने आप के प्रथम भाव में रहेंगे। परिवार के लोगों का पूरा सहयोग आपके साथ रहेगा। आपके कुटुंब में किसी तरह की समस्या रहने की संभावना दिखाई नहीं देती है और यह महीना आपके पारिवारिक जीवन के लिए अनुकूल रहने वाला है। परिवार के लोग आपस में समरसता रखेंगे और एक दूसरे का सहयोग करेंगे जिसके परिणाम स्वरूप पारिवारिक स्थिति में सुधार होगा। चौथे भाव में राहु महाराज उपस्थित हैं और उनके ऊपर सूर्य, बुध, शुक्र का प्रभाव है। इस कारणवश पारिवारिक जीवन में कुछ तनाव बढ़ सकता है और कुछ हलचल रहेगी। एक से ज्यादा लोग आपके घर में आ सकते हैं और घर में अतिथियों की चहल-पहल से थोड़ी रौनक रहेगी जिससे कुछ समय के लिए स्थिति अच्छी रहेगी। महीने के उत्तरार्ध में सूर्य, बुध और शुक्र के एकादश भाव में जाने और मंगल के पंचम भाव में आ जाने से पारिवारिक जीवन में थोड़ी शांति आएगी। तनाव में कमी होगी और आपसी संबंध मधुर होंगे। महीने का पूर्वार्ध पिताजी के स्वास्थ्य के लिए कमजोर रह सकता है इसलिए उनके स्वास्थ्य का ध्यान रखें। हालांकि उत्तरार्ध में उनके स्वास्थ्य में सुधार देखने को मिलेगा जिससे आपको राहत मिलेगी। तीसरे भाव में वक्री बृहस्पति अपनी ही राशि में होने से भाई बहनों का पूरा प्रेम और साथ मिलेगा और घर में उनकी उपस्थिति अच्छी रहेगी तथा आपके साथ उनका सामान जैसे भी बढ़िया रहेगा।

उपाय

शनिवार के दिन महाराज दशरथ कृत शनि स्तोत्र का पाठ करें।
चीटियों को आटा और पक्षियों को अनाज तथा मछलियों को चारा डालें।
शुक्रवार के दिन गौ माता को आटे की लोई खिलाएं।
शिवलिंग का जलाभिषेक करें और शिवलिंग पर अक्षत चढ़ाएं।