January, 2020

सामान्य

तुला राशि के अंतर्गत जन्म लेने के कारण आप शुक्र गृह से प्रभावित होते हैं और इस के कारण देखने में खूबसूरत और अच्छे नैन नक्श वाले होते हैं और लोग आप की ओर सहज रूप से ही आकर्षित हो जाते हैं। आप अपने जीवन में सामंजस्य को महत्व देते हैं और हर बात को उसकी तह तक जाकर जाँचना चाहते हैं और फिर किसी निर्णय पर पहुंचते हैं। हालांकि तुला चर स्वभाव की राशि है इसलिए आप परिस्थितियों और वातावरण के अनुसार भी खुद को ढालने में माहिर होते हैं लेकिन कभी-कभी इस सामंजस्य बिठाने के कारण यह वास्तविकता से थोड़ा दूर हो जाते हैं, जिसका ख़ामियाज़ा आपको समय समय पर भुगतना पड़ता है। आप के अंदर गजब की चुंबकीय क्षमता है और शुक्र की प्रधानता के कारण लोगों का आकर्षण सहज ही आपको प्राप्त होता है। जनवरी का महीना आपके लिए बहुत कुछ संजोए हुए हैं। कहते हैं कि सफलता उन्हीं के कदम चूमती है, जो राहों में झुकना नहीं जानते और इस महीने यह पूरी कहावत आप पर लागू होगी, क्योंकि इस पूरे महीने आप पूरे जोशो ख़रोश से अपने हर काम को अंजाम देंगे और अपने इसी आत्म बल के कारण आपको सफलता प्राप्त होगी। छोटी दूरी की यात्राएं होंगी और ये यात्राएं ना केवल आपकी खुशी में वृद्धि करेंगी बल्कि आपको आर्थिक रुप से भी उन्नत भी बनाएंगी। चाहें परिवार वाले हो अथवा अपना कोई प्रिय या फिर कोई मित्र, आप सबके साथ घूमने का प्रोग्राम बना ही लेंगे। कुछ यात्राएं विशेष कार्य से भी होंगी, जिन्हें पहले से प्लान करके चलेंगे तो इनमें और भी अच्छी सफलता हासिल हो सकती है। इस दौरान आप तीर्थ यात्रा पर भी जा सकते हैं और अपने परिवार को एकजुट करने में ये यात्राएं आपकी सहायता करेंगी।

कार्यक्षेत्र

चलिए अब नजर डालते हैं, आपके करियर पर। कार्य क्षेत्र में आप थोड़ा दबाव महसूस करेंगे। इसकी वजह यह होगी कि जो आपके सीनियर हैं, वे आपकी बजाय आपके सहकर्मियों पर अधिक मेहरबान रहेंगे और यह बात आपको परेशान करती रहेगी। इसी कारण आपका मन काम से हटने लगेगा और आप गलती कर सकते हैं। इन्हीं सब बातों से आपको बच कर रहना होगा। याद रखिए आपके अंदर वह काबिलियत है कि आप हारी हुई बाजी को भी जीत सकते हैं। इस महीने जोश के साथ काम करें और अपने सहकर्मियों में भी अपनी अच्छी छवि बनाएं ताकि आपको उसका पर्याप्त लाभ मिल सके। आपके सहकर्मियों में कुछ आपके विरोधी हो सकते हैं लेकिन आप जानते हैं कि किस को कैसे अपनी और रखना है। आवश्यकता से अधिक आदर्शवादी सोच से आपको बचना होगा अन्यथा परेशानियों में घिर सकते हैं। 24 जनवरी के बाद जब शनि का गोचर मकर राशि में होगा तो उस दौरान आपके स्थान परिवर्तन के योग बनेंगे और संभवतः आप अपने वर्तमान कार्य क्षेत्र में बदलाव करें।व्यापार के सिलसिले में की गई यात्राएं आशातीत सफलता प्रदान करेंगे। काफी समय से अटकी हुई डील फाइनल हो जाने से भी आपको लाभ होगा और आपका संपर्क ही ऐसे लोगों से होगा जो आपके व्यापार को विस्तार देने में सहायक सिद्ध होंगे। 15 जनवरी के बाद परिवार के किसी सदस्य के साथ मिलकर आप कोई व्यापार संबंधित बड़ा निर्णय लेंगे और यह निर्णय आपके पक्ष में जाएगा। व्यावसायिक साझेदार के साथ आपके संबंध कुछ बिगड़े हुए रह सकते हैं लिहाजा इस दिशा में आपको प्रयास करना चाहिए।

आर्थिक

धन संबंधित मामलों में महीने की शुरुआत थोड़ी कमजोर रहने वाली है और शनि देव की तीसरे भाव में प्रस्तुति आपको अधिक परिश्रम करने की ओर प्रेरित करेगी। इस दौरान आपके खर्चे कुछ बड़े हुए रह सकते हैं लेकिन 24 जनवरी के बाद जैसे ही शनि का गोचर चतुर्थ भाव में होगा ख़र्चों में अचानक से कटौती होगी और आप अपने धन का सदुपयोग कर पाने में सफल होंगे। बृहस्पति की उपस्थिति तीसरे भाव में होने से आमदनी बनी रहेगी हालांकि वह थोड़ी कम रहेगी, लेकिन आपके हाथ खाली नहीं रहेंगे और धन से संबंधित कोई कार्य नहीं रुकेगा। शुक्र का गोचर कुंभ राशि में होने के बाद 9 जनवरी से अचानक से धन प्राप्ति के योग बनेंगे। इस दौरान आपको शेयर, सट्टा, लॉटरी से भी अच्छा मुनाफ़ा प्राप्त हो सकता है। हालांकि दूसरी ओर 13 जनवरी को बुध का गोचर मकर राशि में होने से आप अपनी घरेलू वस्तुओं पर अच्छा खासा धन ख़र्च करेंगे। इस दौरान मकान की साज-सज्जा पर भी धन लगेगा। यदि आप बैंक से कोई लोन लेना चाहते हैं तो इस दौरान आपका लोन पास हो जाएगा और आप इस धन को अपने किसी काम में लगा भी देंगे। इसमें कोई संदेह नहीं कि आपकी आमदनी सामान्य रहेगी लेकिन ऐसा भी नहीं है कि आपका फाइनेंस बिगड़ जाए। आपकी आमदनी और खर्च में तालमेल बना रहेगा जिससे आप की आरती की स्थिति ठीक-ठाक चलती रहेगी। इस सब के बावजूद भी आपको धन प्राप्ति के लिए प्रयासरत रहना चाहिए तभी आपके सभी कार्य भली प्रकार पूर्ण होंगे।

स्वास्थ्य

महीने की शुरुआत में ही आपके लग्न का स्वामी शुक्र चतुर्थ भाव में होकर आपको अच्छे परिणाम दे रहा है और 9 जनवरी को पंचम भाव में जा कर यह आपके लिए और अच्छे योग बनाएगा जिससे कि शारीरिक तौर पर आप पूरी तरह से चुस्त दुरुस्त रहेंगे। लेकिन 15 जनवरी के बाद सूर्य के गोचर के कारण आपको कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है जिनमें वक्ष, हृदय, फेफड़े आदि से संबंधित हल्की-फुल्की समस्या हो सकती है। आपको सलाह दी जाती है कि किसी भी हल्की-फुल्की बीमारी को भी गंभीरता से लें और उसका पूरा उपचार कराएं। शनि का गोचर जब मकर राशि में होगा वह समय आपकी स्वास्थ्य समस्याओं को बढ़ाने वाला हो सकता है इसे इस दौरान पूरी तरह से सावधान और सतर्क रहें और अपने शरीर का किसी महंगी वस्तु की भांति पूरा ध्यान रखें। नियमित दिनचर्या अपनाएं और अपने भोजन संबंधित आदतों में फल दूध और तरल पदार्थ पर्याप्त मात्रा में शामिल करें। इससे ना केवल आपका स्वास्थ्य शुद्ध रहेगा बल्कि आपके शरीर में ताज़गी आएगी।

प्रेम व वैवाहिक

प्रेम एक ऐसा भाव है जिसे हर कोई अपने जीवन में प्राप्त करना चाहता है।तुला राशि होने के कारण आप प्यार के मामले में काफी रोमांटिक है और चर राशि होने के कारण नए-नए विचारों को जीवन में लेकर आते हैं। इसके अतिरिक्त शुक्र ग्रह की आपके जीवन में प्रधानता के कारण एक अच्छी क्रिएटिविटी भी अपने अंदर रखते हैं। आकर्षण तो आपके अंदर पहले से ही मौजूद है। इन सभी खूबियों के कारण आप एक आदर्श प्रेमी साबित होते हैं। आप केवल अपने प्रियतम के लिए सबसे अच्छा पार्टनर ही सिद्ध नहीं होते हैं बल्कि उनके एक अच्छे दोस्त भी होते हैं और इसी कारण आपके दोस्तों का दायरा भी बड़ा होता है। जनवरी 2020 की शुरुआत में कुछ ग़लतफ़हमियाँ आप और आपके प्रीतम के बीच पनप सकती हैं लेकिन आप जानते हैं कि आप को कैसे अपने प्रियतम को मनाना है। 9 जनवरी के बाद जब शुक्र का गोचर आपके पंचम भाव में होगा उस समय आप और आपके प्रियतम उनके लिए बेहतरीन समय में से एक समय होगा क्योंकि इस दौरान शुक्र देव आपके प्रेम जीवन में क्यूपिड की तरह आएँगे और इस महीने के अंदर आपके प्रेम जीवन में बाहर आ जाएगी। यदि आप अभी तक सिंगल हैं तो आपके जीवन में किसी प्यारे इंसान की दस्तक हो सकती है जो उसका रिश्ता आपके साथ काफी लंबे समय तक रहेगा। यह महीना प्रेमी युगल के लिए हर तरह से बढ़िया रहने वाला है और आपके रिश्ते में और रोमांस की कोई कमी नहीं होगी। एक दूसरे के साथ घूमने फिरने, साथ खाने पीने अथवा किसी लॉन्ग ड्राइव पर जाने के अनेक मौके मिलेंगे और आपके प्रेम जीवन में गति आएगी। एक दूसरे को समय-समय पर गिफ्ट देना आपके जीवन में ख़ुशियों को और भी अधिक बढ़ा देगा।

जहां तक बात आपके दांपत्य जीवन की है तो यह मान कर चलिए कि यह महीना अभी कुछ परेशानियों के साथ ही रहेगा इस दौरान एक ओर आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है तो वहीं दूसरी और आपके रिश्ते में कड़वाहट आ सकती है। आपके जीवनसाथी का व्यवहार आपके परिवार के लोगों के प्रति अच्छा नहीं रहने से घर में वाद विवाद की स्थिति निर्मित हो सकती है। इससे बचने के लिए थोड़ा समय आप अपने जीवनसाथी को दें और उनके मन की बातें जाने ताकि उनके मन पर जो भी बोझ है वह उतर जाये और वे पहले की तरह हंसी खुशी आपके साथ अच्छे दांपत्य जीवन को व्यतीत करें। संतान को उनके क्षेत्र में आशातीत सफलता मिलेगी और उनके खाते में कोई उपलब्धि दर्ज हो सकती है।

पारिवारिक

महीने की शुरुआत काफी बेहतर तरीके से होगी और परिवार में आपसी तालमेल बेहतर स्थिति में रहेगा, जिससे सभी के बीच स्नेह और प्रेम की भावना बनी रहेगी। 15 जनवरी के बाद जब सूर्य का गोचर आप के चतुर्थ भाव में होगा तब पारिवारिक जीवन में कुछ तनाव उत्पन्न हो सकता है। इसकी मुख्य वजह आपका अपना व्यवहार होगा क्योंकि इस समय में आप स्वयं को अपने परिवार वालों से ऊपर समझना शुरू करेंगे और चाहेंगे कि केवल और केवल आपकी बात सबकी बातों पर भारी पड़े और आप की बात ही मानी जाए। परिवार में आप की ये स्थिति आपको सिवाए दुखों के और कुछ नहीं देगी बल्कि जो आपके आत्मीय जन हैं, वे भी आपसे नाराज़ हो सकते हैं। 24 जनवरी को जब शनि का गोचर भी मकर राशि में हो जायेगा तब सूर्य और शनि की युति आपके इस पारिवारिक जीवन में कड़वाहट घोल सकती है और इस दौरान विशेष रूप से आपके माता-पिता का स्वास्थ्य काफी हद तक खराब हो सकता है। परिवार में आपसी वाद विवाद बढ़ सकते हैं और बहुत हद तक यह संभावना भी है कि इस दौरान आपको स्थान परिवर्तन का सामना करना पड़ेगा और अपने परिवार या अपने वर्तमान निवास स्थान से दूर जाना पड़े। जीवन में चुनौतियाँ आती जाती रहती हैं लेकिन अपनों का साथ सदैव हिम्मत देता है। इसलिए चाहे परिस्थितियां कैसी भी हो आपको अपने परिवार में अपनी जगह बनाए रखने के लिए अच्छा व्यवहार करना चाहिए और सभी को मिलजुलकर एक साथ रहने के लिए मना कर रखना भी आपका ही दायित्व है। आपके भाई बहन किसी समस्या से जूझ रहे हो सकते हैं, ऐसी स्थिति में उनकी यथासंभव मदद ज़रूर करें।

उपाय

जनवरी महीने के दौरान आपको विशेष रूप से शनिदेव की आराधना करनी चाहिए और शनिवार के दिन किसी शनि मंदिर अथवा पीपल के वृक्ष के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए तथा महाराज दशरथ द्वारा रचित नील शनि स्तोत्र का नियमित पाठ करना चाहिए। 1 वर्ष से 11 वर्ष की आयु की छोटी कन्याओं का आशीर्वाद लें और शुक्रवार के दिन उन्हें कुछ भेंट में दें। संभव हो तो सफेद रंग की कोई मिठाई या फिर खीर अवश्य दें। गाय को गेहूं के आटे की लोई अपने हाथ से खिलाएं और अपने नहाने वाले पानी में थोड़ा सा कच्चा दूध मिलाकर स्नान करें। भगवान शिव की आराधना करें और उन्हें दूध तथा सफेद पुष्प अर्पित करें।