November, 2022

सामान्य

धनु राशि के जातकों के लिए नवंबर का महीना शुरुआत से ही काफी अनुकूल रहने की संभावना है। आपकी आमदनी में भी बढ़ोतरी दिखाई देती हुई दिखाई देगी और पारिवारिक जीवन भी संतुष्टि प्रदान करने वाला रहेगा। हालांकि निजी जीवन में कुछ समस्याएं परेशान करने वाली हो सकती हैं, फिर भी यह कई तरीकों से यह महीना आपके लिए शुभकारी साबित होने जा रहा है। आपको अपने आपको तैयार करना चाहिए और यदि आप विदेश जाना चाहते हैं तो यह सुंदर अवसर इस महीने के उत्तरार्ध में आपको प्राप्त हो सकता है। नवंबर का यह महीना आपके जीवन के लिए कैसा रहेगा और परिवार, करियर, स्वास्थ्य, प्रेम आदि क्षेत्रों में आपको कैसे फल प्राप्त होंगे, यह जानने के लिए विस्तार से राशिफल पढ़ें।

कार्यक्षेत्र

यदि आपके करियर के दृष्टिकोण से देखें तो दशम भाव पर पूरे महीने बृहस्पति महाराज वक्री अवस्था में दृष्टि डालें रखेंगे जिसके परिणामस्वरूप कार्यक्षेत्र में शुभ स्थितियों का निर्माण होगा आप अपनी मेहनत का लोहा मनवाने में कामयाब रहेंगे और आपके काम में बरकत होगी लोग आपके काम की तारीफ करेंगे आपसे महत्वपूर्ण कार्य में सलाह लेने आएंगे और आपको अपनी कार्यकुशलता दिखाने का पूरा मौका मिलेगा आप खूब मेहनत करेंगे और जी जान लगाकर अपने काम को बहुत सही समय पर और सही तरीके से निपटाने में कामयाब हो सकते हैं जिससे नौकरी में आप की छुट्टियां अच्छी होंगी आपके संबंध आप के वरिष्ठ अधिकारियों से भी अनुकूल बनेंगे तो आपको इस महीने के दौरान काफी मदद करते हुए नजर आएंगे और उनकी वजह से आप नौकरी में अपनी एक अच्छी पोजीशन बनाए रखने में कामयाब रहते हैं मंगल महाराज के छठे भाव में गोचर करने से महीने के उत्तरार्ध में कार्य क्षेत्र में हल्की फुल्की चुनौतियां आएंगी लेकिन आप उन पर विजय प्राप्त कर लेंगे कुछ आपके विरोधी सक्रिय होने का प्रयास करेंगे लेकिन आप अपनी कुशलता से उन को हरा देंगे और नौकरी में कठिन प्रयास करें।
यदि आप कोई व्यापार करते हैं तो महीने की शुरुआत कुछ उतार-चढ़ाव से भरी रह सकती है। सप्तम भाव में वक्री अवस्था में मंगल की उपस्थिति आपके व्यवसायिक साझेदार से संबंधों में खटास पैदा कर सकती है जिसका असर आपके व्यवसाय पर पड़ सकता है और उसमें गिरावट आ सकती है लेकिन यदि आप उनसे संबंधों में गर्माहट बनाए रखेंगे तो यह समय आपको आपके दीदार के माध्यम से बहुत अच्छा लाभ प्रदान कर सकता है और आपका व्यापार उन्नति कर सकता है। 13 तारीख को मंगल के छठे भाव में वक्री राशि में प्रवेश कर जाने से व्यापार की स्थितियों में और भी ज्यादा सुधार होने की उम्मीद की जा सकती है।

आर्थिक

यदि आपकी आर्थिक स्थिति की बात करेंगे तो महीने की शुरुआत से ही आर्थिक स्थिति प्रबल होती हुई नजर आएगी। एक तरफ तो आपके दूसरे भाव में शनि महाराज अपनी ही राशि में विराजमान होकर धन संचय की स्थिति का निर्माण कर रहे हैं और आपके बैंक बैलेंस को बढ़ाने में मददगार बनेंगे। दूसरी तरफ, बुध, शुक्र और केतु की एकादश भाव में युति आपकी आमदनी में अच्छी बढ़ोतरी की ओर इशारा करती है। आपके एक से अधिक माध्यमों से धन प्राप्ति के योग बन सकते हैं। नियमित आमदनी भी बनी रहेगी जिसके परिणामस्वरूप आपके कार्यों में विलंब नहीं होगा और महत्वपूर्ण होंगे लेकिन महीने के उत्तरार्ध में जब बुध, शुक्र और सूर्य देव तीनों ही द्वादश भाव में चले जाएंगे और मंगल भी छठे घर में आकर द्वादश भाव को देखेंगे, तब आपको आर्थिक स्थिति का थोड़ा सा ध्यान रखना होगा क्योंकि उस दौरान आपके खर्चों में बेतहाशा बढ़ोतरी हो सकती हैं। आप अपनी सुख-सुविधाओं के साथ-साथ कुछ जरूरी काम पर भी खर्च करेंगे लेकिन यह कर जितने अधिक हो सकते हैं कि आपकी आमदनी पर भारी पड़ जाएं इसलिए एक सामंजस्य बनाए रखना बेहतर होगा।

स्वास्थ्य

यदि आपके स्वास्थ्य की बात करें तो राशि स्वामी बृहस्पति के चतुर्थ भाव में उपस्थित होने के कारण स्वास्थ्य में सुधार रहेगा। अधिकांश ग्रहों का एकादश भाव में प्रवेश आपकी स्वास्थ्य समस्याओं में कमी लाएगा लेकिन वक्री मंगल सप्तम भाव में बैठकर प्रथम भाव को देखेंगे जो शारीरिक परेशानियों को जन्म दे सकता है। महीने के उत्तरार्ध में मंगल छठे भाव में जाएंगे और द्वादश भाव में तीन ग्रहों का प्रवेश होगा जो कि बुध, शुक्र और सूर्य होंगे जिसके परिणामस्वरूप स्वास्थ्य में गिरावट आ सकती है। असंतुलित खान-पान आपको बीमार बना सकता है। यहां तक कि आपको हॉस्पिटल जाने की नौबत भी आ सकती है इसलिए प्रारंभ से ही सजग रहें। अपने भोजन की आदतों में सुधार करें और यदि जरा सी भी समस्या हो तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें ताकि किसी भी बड़े रोग को होने से रोका जा सके और आप परेशानी से मुक्त हो सकें और एक तंदुरुस्त जीवन व्यतीत कर सकें। प्रतिदिन अभ्यास करें और योग तथा ध्यान करने का भी प्रयास करें।

प्रेम व वैवाहिक

यदि प्रेम संबंधों की बात की जाए तो पंचम भाव में राहु की उपस्थिति और महीने की शुरुआत में शुक्र और बुध की पंचम भाव पर दृष्टि होने से आपके प्रेम जीवन के लिए यह एक अच्छा समय होगा। आप अपने रिश्ते में काफी गहराई तक चले जाएंगे। उनसे प्यार काफी गहराइयों तक करेंगे और उनके साथ अपने रिलेशनशिप को आगे बढ़ाने का हर संभव प्रयास करेंगे। आप उनसे शादी करने का विचार भी कर सकते हैं लेकिन कुछ सामाजिक समस्याएं सामने आ सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप कुछ बड़ा होने की भी उम्मीद से इनकार नहीं किया जा सकता है, फिर भी प्रेम संबंधी मामलों के लिए यह सप्ताह अनुकूल दिखाई देता है। आपको अपने प्रियतम की बातें सुनने और समझनी चाहिए तथा एक दूसरे को समय देना चाहिए। आवश्यक हो तो कहीं बाहर खाने जाएं या फिर कहीं घूमने जाएं और एक दूसरे की बात का समर्थन करें। इससे आपका रिश्ता परिपक्व होगा।
यदि विवाहित जातकों की बात करें तो कुंडली के सप्तम भाव में मंगल महाराज वक्री अवस्था में विराजमान होकर आप और आपके जीवनसाथी के स्वभाव को उग्र बनाएंगे और इससे आप दोनों के बीच कहासुनी और वाद-विवाद की स्थिति बन सकती है। मंगल की वक्री अवस्था इसमें आग में घी डालने का काम कर सकती है इसलिए इस दौरान बेहद सावधान और सतर्क रहें और कोई भी ऐसा काम या बात ना करें जिससे आपके बीच वाद-विवाद ज्यादा बढ़ जाए। हालांकि जब मंगल महाराज आप के छठे घर में गोचर कर जाएंगे, तभी नई स्थितियों में अंतर आएगा और आपके बीच सामंजस्य फिर से बहाल हो जाएगा और रिश्ते में चली आ रही तल्ख़ियां कम होंगी तथा आप एक दूसरे को अच्छा समय भी दे पाएंगे। द्वादश भाव में शुक्र और बुध के प्रवेश से आप के अंतरंग संबंधों में बढ़ोतरी होगी और रिश्ते में प्रेम बढ़ेगा। जीवन साथी के साथ किसी लंबी यात्रा या विदेश जाने की संभावना बन सकती है।

पारिवारिक

आपकी राशि से दूसरे भाव में शनि महाराज अपनी ही राशि मकर में विराजमान रहेंगे जिससे परिवार से कुछ दूरी बन सकती है। आपकी बात करने का तरीका स्पष्ट तो होगा लेकिन कुछ ऐसा होगा, जो लोगों को कड़वा लगता है क्योंकि आप मीठी बातें न करके स्पष्ट और लगती हुई बातें कर सकते हैं, जो सामने वाले को चुभ सकती हैं। इससे परिवार का माहौल बिगड़ सकता है लेकिन यदि आप अपनी इस कमी को नियंत्रण में रखेंगे तो पारिवारिक जीवन और कुटुंब के लोग एक दूसरे के साथ प्रेम बंधन में बंधे हुए नजर आएंगे और घर का माहौल सकारात्मक रहेगा। चौथे भाव में भी बृहस्पति के विराजमान होने से स्थितियां नियंत्रण में रहेंगी और परिवार के सदस्य आपस में प्रेम भाव के साथ नजर आएंगे। परिवार के वयस्क सदस्यों का भी स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। कुंडली के तीसरे भाव के स्वामी शनि देव के दूसरे भाव में जाने से आपको अपने भाई बहनों का अच्छा सहयोग प्राप्त होगा। वह आपकी हर संभव काम में मदद करेंगे लेकिन उन्हें कुछ चुनौतियां पेश आएंगी, जिन्हें दूर करने में आपको उनकी मदद करनी होगी। परिवार का माहौल सकारात्मक रहेगा।

उपाय

प्रतिदिन आपको अपने भोजन करने से पूर्व गौ ग्रास निकालना चाहिए।
बृहस्पतिवार के दिन ब्राह्मणों और विद्यार्थियों को पठन-पाठन की सामग्री भेंट करें या भोजन कराएं।
भगवान विष्णु जी को पीला चंदन अर्पित करें और उसी चंदन से स्वयं को तिलक लगाएं।
प्रतिदिन सूर्यदेव को तांबे के पात्र से अर्घ्य दें और आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें।