September, 2020

सामान्य

ये माह वृश्चिक राशि वाले जातकों के लिए अन्य के मुकाबले अनुकूल दिखाई दे रहा है क्योंकि शुरुआत में 1 सितम्बर को ही शुक्र का गोचर कर्क राशि में होने से ये आपके नवम भाव में प्रवेश करेगा। इसके साथ ही बुध का गोचर अगले दिन 2 सितंबर को और सूर्य का गोचर 16 सितम्बर को कन्या राशि में होने से ये आपके एकादश भाव में प्रवेश कर जाएगा। वहीं राहु-केतु 23 सितंबर को स्थान परिवर्तन करते हुए क्रमश: आपके सप्तम भाव और लग्न भाव को सक्रिय करेंगे। इसके बाद में बुध 22 सितंबर को पुनः गोचर करते हुए तुला राशि में होने से आपका द्वादश भाव प्रभावित होगा और फिर शुक्र 28 सितंबर को सिंह राशि में स्थान परिवर्तन करते हुए आपके दशम भाव में प्रवेश करेगा, इसलिए इस पूरे ही माह आपको अपने दाम्पत्य जीवन का आनंद उठाने का मौका मिलेगा। ग़ौरतलब है कि बीच-बीच में कार्य की अधिकता से मानसिक तनाव भी होगा लेकिन समय के साथ वो भी आप दूर कर पाने में सफल होंगे।

कार्यक्षेत्र

इस माह संभावना है कि किसी कार्य के सिलसिले में आपको अपना स्थान परिवर्तन करना पड़े। इस दौरान शुरुआत में आपको कुछ कठिनाई भी आने की संभावना है लेकिन ये स्थान परिवर्तन कुछ महीनों के लिए ही होगा उसके बाद आपका जीवन सामान्य रूप से पटरी पर लौट आएगा। इस समय आपको किसी अन्य काम के चलते मानसिक तनाव भी हो सकता है और संभावना है कि आप इस कार्य के चलते कुछ ज्यादा ही व्यस्त हो जाए। आपके काम की तारीफ आपके बॉस भी करेंगे और आपकी मेहनत व लग्न के चलते आपके वरिष्ठ अधिकारी आपके अनुसार ही हर कार्य करते नजर आएँगे। इस दौरान कार्यस्थल पर आपके अधिकारी आप से और अधिक मेहनत की अपेक्षा रखेंगे इसलिए आपको उनकी इस उम्मीद को ध्यान में रखते हुए ही कार्य करना होगा क्योंकि इसके चलते ही आने वाले समय में आपको प्रोमोशन व पदोन्नति मिल सकती है। कुल मिलाकर कहें तो ये माह आपके लिए अच्छा साबित होने वाला है।
भाग्य स्टार: 4/ 5

आर्थिक

इस समय आपको किसी भी गैर कानूनी लेन-देन को करने से पहले थोड़ा सावधान होने की जरूरत होगी अन्यथा आपका पैसा अटक सकता है। आप अपने भविष्य के लिए कोई निवेश करने का फैसला ले सकते हैं। घर परिवार की साज-सज्जा पर आपका धन खर्च होगा जिससे आर्थिक स्थिति कुछ कमजोर होने की भी संभावना है। वाहन चलाने वाले जातकों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत होगी क्योंकि इस माह आशंका है कि किसी गलती के चलते आपको कोई बड़ा हर्जाना भुगतना पड़े। परिवार में भाई-बहन की नई नौकरी लगने से आपको आर्थिक मदद मिलेगी जिससे घर का वातावरण भी अच्छा रहेगा।
भाग्य स्टार: 3.5/5

स्वास्थ्य

इस माह संभावना है कि आपको अपने शरीर के निचले हिस्से से जुड़ी कोई समस्या हो जाए। विशेष तौर पर जांघों एवं घुटनों से संबंधित विकार होने की आशंका है इसलिए सावधान रहें। शरीर को लचीला बनाने के लिए योग एवं व्यायाम का सहारा ले। अनियमित खाने की समस्या आपको दिक्कत दे सकती है इसलिए उसपर नियंत्रण रखें। वाहन तेज गति में ना चलाएँ अन्यथा कोई दुर्घटना हो सकती है। यदि आपको अस्थमा/ दमा या साँस से संबंधित कोई परेशानी है तो अपने साथ जरूरी सामान हमेशा रखें। अपनी दवाइयों के प्रति किसी भी तरह की लापरवाही सेहत से संबंधित परेशानी उत्पन्न कर सकती है।
भाग्य स्टार: 3/5

प्रेम व वैवाहिक

आपके प्रेम जीवन की बात करें तो इस माह प्रेम में पड़े जातकों को अपने प्रियतम के प्रति अधिकारात्‍मकता के भाव को कम एवं अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखने की जरूरत होगी अन्यथा आपका प्रेमी इस रिश्ते में खुद को घुटा हुआ महसूस कर सकता है। आपके प्रिय को आप से अधिक अपेक्षा होगी इसलिए आपको भी उनकी इस जरूरत का ध्यान रखना होगा। यदि आप किसी से सच्चा प्रेम करते हैं तो उन पर बेवजह शक करने से बचे अन्यथा कलह की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। यदि आप अभी तक सिंगल है तो इस माह आपको कोई नया साथी मिल सकता है। वहीं वैवाहिक जातकों के लिए यह माह अनुकूल ही रहेगा क्योंकि लंबे विवाद के बाद आप इस समय अपने जीवनसाथी के नज़दीक आएँगे और संभावना है कि आप दोनों किसी लंबी दूरी की यात्रा पर जाने का भी प्लान बनाएँ।
भाग्य अंक: 3.5/5

पारिवारिक

इस महीने आपके अपने भाई-बहनों से संबंध बेहतर होंगे और आप उनके साथ अच्छा समय बिताते नजर आएँगे। आपको घर परिवार से कोई अच्छी खबर मिलने की संभावना है। यदि घर में कोई बुजुर्ग मानसिक तौर पर बीमार है तो इस समय उनकी मानसिक स्थिति सामान्य रहेगी जिससे घर का माहौल भी खुशहाल नजर आएगा। घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवास होगा जिसके चलते आप परिवार के साथ आनंदमय समय व्यतीत करेंगे। परिवार के लोगों के साथ किसी यात्रा पर जाने का प्लान भी बन सकता है। यदि परिवार के बीच कोई पुराना विवाद चला आ रहा था तो वह भी सुलझ सकता है। कुल मिलाकर देखा जाए तो ये महीना आपके पारिवारिक जीवन के लिहाज से अनुकूल रहने वाला है।
भाग्य स्टार: 3.5/ 5

उपाय

रोज़ाना सूर्योदय के समय 108 बार ‘श्री गायत्री मंत्र’ का जप करें।